UP BEd JEE 2022 : यूपी बीएड के लिए आए रिकॉर्ड तोड़ आवेदन, अब 24 मई तक करें सुधार

0
100

यूपी बीएड जेईई 2022: इस साल बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा 2022 महात्मा ज्योतिबा फुले रोहिलखंड विश्वविद्यालय बरेली द्वारा आयोजित की जाएगी। इस बार रिकॉर्ड तोड़ 6,72,456 उम्मीदवारों ने आवेदन किया है।

UP B.Ed JEE 2022: शैक्षणिक सत्र 2022-24 के लिए B.Ed पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा (UP B.Ed प्रवेश परीक्षा 2022) के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 20 मई को समाप्त हो गई है। रिकॉर्ड तोड़ 6,72,456 उम्मीदवारों ने शाम छह बजे तक आवेदन किया है। ऑनलाइन जमा किए गए आवेदनों में विषय श्रेणी, लिंग, वेटेज और परीक्षा केंद्रों को भरते समय यदि कोई गलती है, तो संबंधित उम्मीदवार 21 मई से 24 मई तक उपरोक्त त्रुटियों को ऑनलाइन सुधार सकते हैं। ऐसे उम्मीदवार संशोधन के बाद पूरा आवेदन पत्र जमा करें। विश्वविद्यालय की वेबसाइट www.mjpru.ac.in पर अपने लॉगिन आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके और भविष्य के संदर्भ के लिए संशोधित आवेदन पत्र का प्रिंट आउट फिर से अपने पास सुरक्षित रखें।

अब आवेदन प्रक्रिया पूरी होने के बाद जल्द ही परीक्षा केंद्रों की घोषणा की जाएगी। सभी 75 जिलों में बीएड की प्रवेश परीक्षा होनी है।

प्रवेश परीक्षा 6 जुलाई को आयोजित की जाएगी। परीक्षा परिणाम 5 अगस्त को जारी किया जाएगा। परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों की काउंसलिंग 10 से 25 अगस्त तक आयोजित की जाएगी। बीएड-2022 का नियमित सत्र 29 से शुरू होगा। अगस्त 2022।

इस वर्ष बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा 2022 महात्मा ज्योतिबा फुले रोहिलखंड विश्वविद्यालय बरेली द्वारा आयोजित की जाएगी।

UP BEd Entrance Exam 2022 :

बीएड प्रवेश परीक्षा में आवेदन का तीन साल का रिकॉर्ड टूटा, इतने लाख अभ्यर्थियों ने किया आवेदन | रोहिलखंड विश्वविद्यालय वर्तमान में बीएड प्रवेश परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन ले रहा है। ऑनलाइन आवेदन 18 अप्रैल से शुरू हुए थे। 15 मई तक बिना विलंब शुल्क के आवेदन प्राप्त हुए। 16 मई से 20 मई तक इस बार उत्तर प्रदेश बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा में आवेदकों की संख्या ने पिछले तीन साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। इस बार प्रवेश परीक्षा की जिम्मेदारी रोहिलखंड विश्वविद्यालय को दी गई है। परीक्षा के लिए अब तक 6.40 लाख उम्मीदवारों ने आवेदन किया है। पिछले साल यह संख्या 6.14 लाख हो गई थी। आवेदन के लिए तीन दिन शेष हैं, ऐसे में यह आंकड़ा और बढ़ना तय है। रोहिलखंड विश्वविद्यालय वर्तमान में बीएड प्रवेश परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन ले रहा है। ऑनलाइन आवेदन 18 अप्रैल से शुरू हुए थे। 15 मई तक बिना विलंब शुल्क के आवेदन प्राप्त हुए थे। आवेदन 16 मई से 20 मई तक विलंब शुल्क के साथ खुले हैं। वर्ष 2019 में भी रोहिलखंड विश्वविद्यालय ने यह प्रवेश परीक्षा आयोजित की है। तब 6.09 लाख आवेदन आए थे। वर्ष 2020 और वर्ष 2021 में लखनऊ विश्वविद्यालय ने प्रवेश परीक्षा आयोजित की। साल 2020 में 591000 और साल 2021 में 614000 लोगों ने आवेदन किया था। इस बार पिछले तीन साल का रिकॉर्ड टूट गया है। अब तक 6.40 लाख आवेदकों ने ऑनलाइन फॉर्म भरा है।

UP BEd प्रवेश परीक्षा 2022-23:

20 मई तक लेट फीस के साथ कर सकते हैं बीएड प्रवेश के लिए आवेदन, 75 जिलों में होगी बीएड प्रवेश परीक्षा
केंद्रों की सूची भी जल्द होगी फाइनल छह जुलाई को होने वाली प्रवेश परीक्षा के लिए केंद्रों के निर्धारण का काम भी जोरों पर चल रहा है. रोहिलखंड विश्वविद्यालय कॉलेजों में उपलब्ध सुविधाओं के आधार पर केंद्रों की सूची जारी करेगा। पर्याप्त संसाधन वाले ए और बी श्रेणी के कॉलेजों को ही केंद्र बनाया जाएगा। परीक्षा सभी 75 जिलों में आयोजित की जाएगी।

बीएड में रिकॉर्ड तोड़ आवेदन

उत्तर प्रदेश बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा के राज्य समन्वयक डॉ पीबी सिंह ने कहा कि इस बार बीएड प्रवेश परीक्षा के लिए पिछले तीन वर्षों की तुलना में रिकॉर्ड तोड़ आवेदन प्राप्त हुए हैं. पिछले साल लखनऊ विश्वविद्यालय ने 1500 रुपये की फीस ली थी. छात्रों के हित को ध्यान में रखते हुए हमने फीस में 500 रुपये की भारी कटौती की. छात्रों से महज एक हजार रुपये वसूले गए। इससे भी आवेदकों की संख्या में इजाफा हुआ है।

बीएड का बढ़ा क्रेज, बंद होने लगे डीएलएड कॉलेज, शिक्षक भर्ती में बीएड मान्य होने से घटी डीएलएड की पूछ

परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में बीएड मान्य होने के बाद से डिप्लोमा इन एलिमेंटरी एजुकेशन (डीएलएड या पूर्व में बीटीसी) का क्रेज घटता जा रहा है। स्थिति यह है कि अब प्राइवेट डीएलएड कॉलेजों पर ताले पड़ने लगे हैं। ऐसे समय में जबकि परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय डीएलएड-2022 सत्र के प्रवेश की तैयारी में जुटा है, पश्चिमी यूपी के सात निजी डीएलएड कॉलेजों ने एडमिशन लेने से मना कर दिया है। इन कॉलेजों को पिछले साल एक भी छात्र नहीं मिला था।
कभी नौकरी की गारंटी रहे डीएलएड के 2021 सत्र में प्रदेश के 106 प्राइवेट कॉलेजों को एक भी छात्र नहीं मिला था। सैकड़ों कॉलेज ऐसे थे जिन्हें बमुश्किल एक दर्जन छात्र मिले थे। 2020 का सत्र शून्य होने के कारण प्रवेश नहीं हुआ और 2021 में डीएलएड की 2,18,300 सीटों में से 96,134 भरी जा सकी थीं। आधी से अधिक 1,32,766 सीटें खाली रह गई थीं। आधी सीटें भी नहीं भरने से निजी कॉलेजों की कमाई पूरी तरह खत्म हो गई और इनके सामने अस्तित्व का संकट खड़ा हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here